Tuesday, September 9, 2014

The Great Bharat Army

NDTV का रिपोर्टर बाढ़ में फँसे
कश्मीरी मुसलमानों का इंटरव्यू ले रहे
हैं .........
और
मेरा दिल कर रहा है कि उन
कश्मीरियों की बातों का जवाब दूं ....
एक कश्मीरी 1 - सब तबाह हो गया ...
हमारा घर
बह गया ....
मेरा मन -- तुम्हारा घर ???
कौन
सा घर ???।
ये
तो कश्मीरी पंडितों के घर थे .....
तुमने
तो उन्हें
मार के उनकी जगह छीन ली ......।
कुत्तों ...
तबाह
तो वो पंडित हुए थे जिनकी जन्नत तुमने
उनसे
छीन
ली .....
कश्मीरी 2- कल मेरी शादी थी ....
मेरा शादी का सारा सामान बह
गया ?
मेरा मन - साले ...
शादी थी ...
आज
नहीं कल
हो ही जाएगी .........
पर उन
कश्मीरी हिन्दू
लड़कियों की शादी शायद
कभी नहीं हुई
होगी जिनकी तुमने आबरू लूट ली . ..
या हो भी गयी होगी तो वो बलात्कार
का दंश हर
पल महसूस करती होंगी ........
और शादी के अपने सामान
की इतनी चिंता ????
अरे
तुम लोगों ने उन पंडितों के बसे बसाये
घर
मकानों पर
कब्जा कर लिया ...
उनके खेत .. पशुओं पर दांत
गढ़ा दिए ...
उनके गहने कपड़े हड़प लिए ......
शर्म
नहीं आयी तुम भिखारियों को .......
जिन हिन्दुओं
और हिंदुस्तान को गाली देते हो ....
उन्हीं के फेंके और
छीने टुकड़ों पर जीते हो ......
कश्मीरी 3- यहाँ हमें अभी तक कोई
मदद
वदद
नहीं मिली ......
हम भूखे हैं ......
कहाँ है
वो इनका लंगर वंगर ....
मेरा मन चीख उठा --
‪#‎सूअर‬ की औलाद .....
लंगर वंगर
याद आ रहा है तुझे .....
खबीस
की औलाद ......
उसी लंगर को जलाया था न अमरनाथ
यात्रा के
दौरान ......
हवन कुंड में मूत्र विसर्जन
किया था न ........
अब जा उसी मूत
को पी .....
चल
भाग ....
‪#‎राणा